SC ने मद्रास हाईकोर्ट के पूर्व जज की आलोचना की: कहा- रिटायरमेंट के 5 महीने बाद फैसला सुनाना गलत, केस की फाइल अपने पास रखना अनुचित

  • Hindi News
  • National
  • SC Criticises Former Madras HC Judge For Releasing Judgment In Criminal Case 5 Months After Retiring

नई दिल्ली1 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

मद्रास हाईकोर्ट से जस्टिस टी मथिवनन 26 मई 2017 को रिटायर हो गए थे। इसके 5 महीने बाद 23 अक्टूबर 2023 उन्होंने एक केस में फैसला सुनाया। (फाइल फोटो)

सुप्रीम कोर्ट ने रिटायरमेंट के 5 महीने बाद फैसला सुनाने पर मद्रास हाईकोर्ट के पूर्व न्यायाधीश की आलोचना की है। कोर्ट ने कहा कि पद छोड़ने के बाद पांच महीने तक केस की फाइल को अपने पास रखना घोर अनुचित काम है। आदेश का ऑपरेटिव हिस्सा 17 अप्रैल 2017 को सुनाया गया था। जज के पास फैसला सुनाने के लिए पांच सप्ताह थे, लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया।

जस्टिस अभय एस ओका और जस्टिस उज्ज्वल भुइयां की बेंच ने हाई कोर्ट के आदेश को रद्द कर दिया है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि मद्रास हाईकोर्ट अब दोबारा उस मामले पर सुनवाई करके फैसला करे।

क्या है पूरा मामला?
मद्रास हाईकोर्ट से जस्टिस टी मथिवनन 26 मई 2017को रिटायर हो गए थे। इसके बाद वो ऑफिस आना छोड़ दिए थे। हालांकि, इसके 5 महीने तक उन्होंने एक केस की फाइल अपने पास रखी और 23 अक्टूबर 2023 को अपना फैसला सुनाया।

इस पर सुप्रीम कोर्ट ने इंग्लैण्ड के पहले मुख्य न्यायाधीश रहे लॉर्ड हेवार्ट का हवाला देते हुए कहा कि न्याय न केवल होना चाहिए, बल्कि होता हुआ दिखना भी चाहिए। मद्रास हाईकोर्ट में जो किया गया है, वो हेवार्ट ने जो कहा है उसके विपरीत है। हम ऐसे अनुचित काम का समर्थन नहीं कर सकते हैं। इसी वजह से रिटायर्ड जज का फैसला रद्द किया गया है।

कोर्ट से जुड़ी ये खबरें भी पढ़ें …

संदेशखाली पर बंगाल सरकार को हाईकोर्ट की फटकार: कहा- शाहजहां समस्या की जड़, उसे क्यों नहीं पकड़ा

संदेशखाली केस को लेकर कलकत्ता हाईकोर्ट की डिवीजन बेंच ने मंगलवार को बंगाल सरकार को फटकार लगाई। कोर्ट ने कहा- शुरुआती तौर पर ये साफ है कि टीएमसी नेता शाहजहां ने लोगों को नुकसान पहुंचाया। जिस शाहजहां पर रेप और जमीन हड़पने के आरोप हैं, ऐसा लगता है कि वो पुलिस की पहुंच से बाहर है।​​​​​​​ पूरी खबर पढ़ें …

ED को SC की फटकार-बदला लेने की नीयत न रखें: आपसे निष्पक्षता की उम्मीद; कोर्ट ने मनी लॉन्ड्रिंग केस में दो अरेस्ट कैंसिल कीं​​​​​​​

​​​​​​​

​​​​​​​सुप्रीम कोर्ट ने एन्फोर्समेंट डायरेक्टोरेट (ED) को फटकार लगाते हुए मनी लॉन्ड्रिंग के दो मामलों में अरेस्ट को कैंसिल कर दिया। जस्टिस ए एस बोपन्ना और संजय कुमार की बेंच ने कहा कि जांच एजेंसी को पूरी निष्पक्षता के साथ काम करना चाहिए और बदला लेने की प्रवृत्ति रखने से बचना चाहिए।​​​​​​​ पूरी खबर पढ़ें …

खबरें और भी हैं…