Jharkhand: ‘वे भगोड़े नहीं, एक लोकप्रिय नेता हैं’, सीएम सोरेन के आवास पर छापेमारी के बाद भड़के JMM नेता


मुश्किल में हेमंत सोरेन।
– फोटो : Amar Ujala

विस्तार


झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के दिल्ली स्थित आवास पर छापेमारी और कई चीजों की जब्ती के बाद झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो) के सभी विधायकों को राज्य की राजधानी रांची में ही रहने के निर्देश दिए गए हैं। विधायकों से राजनीतिक स्थिति पर चर्चा के लिए मंगलवार को एक बैठक में भाग लेने के लिए भी कहा गया है। पार्टी के एक अधिकारी ने इसकी जानकारी दी है। 

अधिकारी ने बताया कि मुख्यमंत्री आवास में बैठक राज्य की  मौजूदा राजनीतिक स्थिति और प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) द्वारा बुधवार को मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन से पूछताछ को लेकर चर्चा करने के लिए बुलाई गई है। 

बता दें कि ईडी को भेजे गए ईमेल में सोरेन ने 31 जनवरी को दोपहर एक बजे अपने आवास पर अपना बयान दर्ज कराने पर सहमति जताई है। झारखंड मुक्ति मोर्चा के महासचिव और प्रवक्ता विनोद कुमार पांडे ने मीडिया को बताया कि मौजूदा राजनीतिक स्थिति को देखते हुए सत्तारूढ़ गठबंधन के सभी विधायकों को रांची में रहने का निर्देश दिया गया है। उन्होंने कहा, ‘वे भविष्य की कार्रवाई पर चर्चा करने के लिए मंगलवार को मिलेंगे।’

सोरेन के आवास पर छापेमारी के बाद भड़के जेएमएम नेता

सीएम सोरेन के आवास पर ईडी की टीम के दौरे पर झारखंड मुक्ति मोर्चा के नेता मनोज पांडे ने कहा, ‘केंद्र में निर्वाचित एक सरकार, एक निर्वाचित सीएम को परेशान कर रही है। क्या आदिवासी होना पाप है? हेमंत सोरेन ने ईडी को जानकारी दी थी कि वह 31 जनवरी को उपलब्ध रहेंगे। ईडी ने खुद ही 31 जनवरी की डेडलाइन दी थी, तो 29 जनवरी को जांच क्यों की गई? इतनी उत्सुकता क्यों है? वे कोई भगोड़े नहीं बल्कि एक लोकप्रिय नेता हैं। यह झारखंड के लोगों और आदिवासियों का अपमान है।’

झारखंड के मंत्री बन्ना गुपता ने कहा, ‘माननीय मुख्यमंत्री झारखंडवासियों के दिलों में हैं। उन्होंने कहा है कि वे ईडी के सभी सवालों का जवाब देंगे। डेडलाइन तो आने दीजिए। मैं ईडी पर कोई बयान नहीं देने वाला हूं। सब कुछ जनता की अदालत में होगा, जो लोकतंत्र का प्रमुख है। किसके साथ क्या हो रहा है, इसे लेकर लोग कहानी बना रहे है।’

29 जनवरी को सोरेन के दिल्ली स्थित आवास पर छापेमारी

झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के दिल्ली स्थित आवास पर प्रवर्तन निदेशालय की एक टीम सोमवार सुबह ही पहुंच गई। गौरतलब है कि ईडी ने पहले ही सोरेन को कथित भूमि घोटाला मामले में पूछताछ के लिए पेश होने को कहा था। एजेंसी ने चेतावनी दी थी कि सोरेन या तो पेशी के लिए 29 या 31 जनवरी की तारीख दें या फिर ईडी के अधिकारी खुद ही उनसे पूछताछ करने पहुंच जाएंगे।

क्या है मामला

झारखंड की राजधानी रांची में बजरा इलाके में 7.16 एकड़ जमीन से जुड़े कथित भूमि घोटाले में हेमंत सोरेन से पूछताछ होनी है। इस मामले में अब तक 14 लोग गिरफ्तार हो चुके हैं। गिरफ्तार हाई प्रोफाइल लोगों में 2011 बैच के आईएएस अधिकारी छवि रंजन, भानु प्रताप प्रसाद, व्यवसायी अमित अग्रवाल और बिष्णु अग्रवाल शामिल हैं। 

इस मामले में पूछताछ के लिए ईडी ने हेमंत सोरेन को कई समन जारी किए थे, लेकिन समन जारी होने के बाद भी हेमंत सोरेने पूछताछ के लिए पेश नहीं हो रहे थे। बीते शनिवार को ईडी के अधिकारियों की एक टीम ने हेमंत सोरेन के आवास पर जाकर ही उनसे कई घंटे पूछताछ की।