सुप्रीम कोर्ट के नाम पर बनी फर्जी वेबसाइट: कोर्ट ने सर्कुलर जारी कर कहा- इस URL पर पर्सनल इंफॉर्मेशन शेयर न करें

नई दिल्ली2 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

सुप्रीम कोर्ट की आधिकारिक वेबसाइट के नाम पर लोगों से धोखाधड़ी करने की कोशिश की जा रही है। कोर्ट ने एक सर्कुलर शेयर बताया है कि उसकी ऑफिशियल वेबसाइट से मिलती-जुलती एक नकली वेबसाइट बनाई गई है। इसके जरिए हैकर्स लोगों की निजी और गोपनीय जानकारी इकट्‌ठा कर रहे हैं। सुप्रीम कोर्ट की रजिस्ट्री ने लोगों को सतर्क रहने को कहा है।

रजिस्ट्री ने बताया कि ये फेक वेबसाइट http://cbins/scigv.com और https://cbins.scigv.com/offence URL पर होस्ट की जा रही है। इनमें से दूसरे URL पर क्लिक करने पर वेबसाइट खुलती है जिसके हेडर में लिखा आता है- ऑफेंस ऑफ मनी-लॉन्ड्रिंग। इस वेबसाइट पर लोगों की निजी जानकारी, इंटरनेट-बैंकिग, क्रेडिट और डेबिट कार्ड से जुड़ी जानकारी चुराई जा रही है।

सुप्रीम कोर्ट रजिस्ट्री ने ये पब्लिक नोटिस जारी करके लोगों को सतर्क रहने को कहा है।

सुप्रीम कोर्ट रजिस्ट्री ने ये पब्लिक नोटिस जारी करके लोगों को सतर्क रहने को कहा है।

कोर्ट ने एडवाइजरी में कहा- हम कभी आपसे निजी जानकारी नहीं मांगेंगे
कोर्ट के मुताबिक, ऑफिशियल वेबसाइट जैसी दिखने वाली इस साइट पर जानकारी भरने के लिए कई बॉक्स हैं, जिसमें बैंक का नाम, फोन नंबर, परमानेंट अकाउंट नंबर (PAN), ऑनलाइन बैंकिंग यूजर ID, लॉग-इन पासवर्ड और कार्ड का पासवर्ड तक शामिल हैं।

कोर्ट ने अपनी एडवाइजरी में कहा कि इन वेबसाइट पर जाने वाले यूजर्स को हमारी सख्त हिदायत है कि अपनी निजी और गोपनीय जानकारी शेयर न करें। इस जानकारी को अपराधी चुरा सकते हैं। इस बात को हमेशा ध्यान रखें कि सुप्रीम कोर्ट की रजिस्ट्री आपसे कभी पर्सनल, फाइनेंशियल या कोई और गोपनीय जानकारी नहीं मांगेगी।

कोर्ट ने कहा- धोखाधड़ी का शिकार हुए हैं तो तुरंत सभी पासवर्ड बदलें
रजिस्ट्री ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने लॉ एनफोर्समेंट एजेंसियों को इन फर्जी वेबसाइ‌ट्स के बारे में बता दिया है, ताकि आरोपियों की पहचान कर कार्रवाई की जा सके। रजिस्ट्री ने लोगों को सलाह दी है कि किसी भी URL पर क्लिक करने से पहले उसे अच्छे से वेरिफाई कर लें।

रजिस्ट्री ने कहा कि अगर आप धोखाधड़ी के शिकार हुए हैं, तो तुरंत अपने सभी ऑनलाइन अकाउंट्स का पासवर्ड बदल लें और अपने बैंक और क्रेडिट कार्ड कंपनी को इस बारे में जानकारी दें।

ये खबर भी पढ़ें…

दिल्ली AIIMS के सर्वर हैकिंग के पीछे चीनी साजिश: पर्सनल डेटा और 5 सर्वर में लगी थी सेंध

बीते साल नवंबर में दिल्ली AIIMS का सर्वर हैक हुआ था। इस मामले की जांच कर रहे अधिकारियो ने चीन की ओर इशारा किया था। दरअसल, उस समय AIIMS के 5 सर्वर हैक किए गए थे। हैकिंग के दौरान पर्सनल डेटा भी लीक होने की खबर आई थी। कहा गया था कि ये डेटा डार्क वेब के मेन डोमेन पर भी होने की संभावना है। इससे भारत के VVIP सहित लाखों मरीजों के सीक्रेट डेटा लीक होने की आशंका बढ़ गई। पूरी खबर यहां पढ़ें…

खबरें और भी हैं…