साल में 3 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी! पिंक फ्रॉड कॉल सेंटर से 7 महिलाएं गिरफ्तार – News18 Bangla

#कोलकाता: सीआईडी ​​के जाल में इस बार दो बेटियां ‘पिंक फ्रॉड कॉल सेंटर’ के मुखिया हैं। पता चला है कि ये दोनों सेना के सेवानिवृत्त अधिकारियों की बेटियां हैं। इस बार बागुईओ के लोकनाथ पार्क में सीआईडी ​​साइबर क्राइम के मालिकों को फर्जी “पिंक” फ्रॉड कॉल सेंटर का ठिकाना मिला। सीआईडी ​​जांचकर्ताओं के मुताबिक पिंक फ्रॉड कॉल सेंटर महिलाओं द्वारा चलाया जाता है। धोखाधड़ी के आरोप में छह महिलाएं गिरफ्तार मृतकों की पहचान पबली मित्रा, स्नेहा मित्रा, दलिया नाथ, प्रिया चक्रवर्ती, अनीता गुप्ता और सुवर्णा साहा के रूप में हुई है।

मोबाइल टावर लगाने के नाम पर ठगी के आरोप में छह महिलाओं को गिरफ्तार किया गया है। सीआईडी ​​सूत्रों के अनुसार, समाचार, मोबाइल फोन और लैपटॉप सहित कई दस्तावेज बरामद किए गए। सीआईडी ​​सूत्रों के मुताबिक इस कॉल सेंटर की खासियत महिलाएं चलाती हैं। गिरफ्तार लोगों में पुबली मित्रा और पूर्व सैन्य अधिकारी की बेटी स्नेहा मित्रा शामिल हैं। यह कॉल सेंटर उन्हीं के द्वारा चलाया जाता था। इससे पहले पुबली और स्नेहा मित्रा को भी गिरफ्तार किया गया था। सीआईडी ​​सूत्रों के मुताबिक इन महिलाओं पर करीब तीन करोड़ रुपये की धोखाधड़ी का आरोप है।

धोखा कैसे काम करता था? सीआईडी ​​सूत्रों के अनुसार, उन्हें यह पूछने के लिए बुलाया गया था कि क्या वे मोबाइल टावर लगाने में रुचि रखते हैं। घरों की छतों पर या बड़ी खाली जगहों पर मोबाइल टावर लगाने का लालच मोटी रकम का लालच दिखाकर दिया गया। कुछ ही दिनों में ऑनलाइन दस्तावेज मांगे गए। उसके बाद आरोप लगाया गया कि एक व्यक्ति से पंजीयन शुल्क व अन्य कई चीजों के लिए पांच लाख रुपये लिए गए। सीआईडी ​​सूत्रों के मुताबिक इस तरह से कथित तौर पर करीब बीस लाख रुपये की हेराफेरी की गई।

और पढ़ें- सावधान, बंगाल में कोरोना के हालात लेकिन फिर भी काफी चिंताजनक!

उस पर साल में करीब तीन करोड़ रुपये की धोखाधड़ी करने का आरोप है। पीड़ितों में पुबली और स्नेहा मित्रा हैं। दलिया नाथ रहारा शांतिनगर में रहते हैं। प्रिया चक्रवर्ती का घर अशोक नगर साउथ पल्ली में है। अनीता गुप्ता के इलेक्ट्रॉनिक्स कॉम्प्लेक्स में घर। सुबरना का घर दमदम छावनी क्षेत्र में है। CID साइबर अधिकारी लंबे समय से फर्जी कॉल सेंटरों पर छापेमारी में शामिल रहे हैं, कई लोगों को गिरफ्तार किया है और पाया है कि नकली कॉल सेंटर साल्ट लेक में मकड़ी के जाले की तरह फैल गए हैं। सूत्र के मुताबिक, दो बहनों पुबली और स्नेहा मित्रा को पिछले साल दिसंबर में गिरफ्तार किया गया था और जमानत पर रिहा कर दिया गया था।

और पढ़ें- बीएसएफ का सशक्तिकरण, राज्य का कानून लाए तो क्या है इसका भविष्य

शुक्रवार को पुलिस ने छापेमारी कर दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। खुफिया सूत्रों के मुताबिक एक सेवानिवृत्त सैन्य अधिकारी की दो बेटियां साल्ट लेक के पिंक फ्रॉड कॉल सेंटर में लंबे समय से सस्ते मकान में किराए पर रह रही हैं। महिलाओं द्वारा संचालित इस केंद्र में काम करने वाली अन्य सभी महिलाएं हैं। ऐसा इसलिए ताकि धोखेबाजों का विश्वास जल्दी हासिल किया जा सके। सीआईडी ​​साइबर क्राइम के अधिकारियों ने शुक्रवार को बागुईआटी लोकनाथ पार्क कॉल सेंटर में छापेमारी कर छह महिलाओं को गिरफ्तार किया है. सीआईडी ​​साइबर क्राइम अधिकारी यह पता लगाने की कोशिश करेंगे कि क्या इस घोटाले में कोई और भी शामिल है।

अर्पिता हाजरा