शिक्षक भर्ती घोटाला में अभिषेक बनर्जी से पूछताछ शुरू: ED ने कल समन भेजा था; 13 सितंबर को 9 घंटे हुआ था सवाल-जवाब

कोलकाता2 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

अभिषेक बनर्जी से कोलकाता में सीजीओ कॉम्प्लेक्स स्थित ED के ऑफिस में पूछताछ हो रही है।

पश्चिम बंगाल के शिक्षक भर्ती घोटाला मामले में तृणमूल कांग्रेस (TMC) के सांसद अभिषेक बनर्जी से आज एनफोर्समेंट डायरेक्टोरेट (ED) पूछताछ कर रही है। जांच एजेंसी ने बुधवार (8 नवंबर) को TMC सांसद को समन भेजा था।

इससे पहले ED ने 3 अक्टूबर को अभिषेक बनर्जी को पेश होने के लिए कहा था। हालांकि, अभिषेक बनर्जी उस दिन ED के सामने पेश नहीं हुए थे। वे दिल्ली में 2-3 अक्टूबर को TMC के विरोध प्रदर्शन में चले गए थे।

अभिषेक बनर्जी बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के भतीजे और TMC के नेशनल सेक्रेटरी हैं।

अभिषेक बनर्जी बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के भतीजे और TMC के नेशनल सेक्रेटरी हैं।

पिछली बार अभिषेक बनर्जी से नौ घंटे तक पूछताछ हुई
शिक्षक भर्ती घोटाले में ED ने अभिषेक बनर्जी से 13 सितंबर को लगभग नौ घंटे तक पूछताछ की थी। तब TMC सांसद ने आरोप लगाया था कि इंडियन नेशनल डेवलपमेंटल अलायंस (I.N.D.I.A.) की बैठक में जाने से रोकने के लिए उन्हें 13 सितंबर को जान-बूझकर कर बुलाया गया। इसी दिन दिल्ली में I.N.D.I.A अलायंस के कोऑर्डिनेशन/स्ट्रैटजी कमेटी की पहली बैठक थी।

शिक्षक भर्ती घोटाला में बंगाल के पूर्व शिक्षा मंत्री पार्थ चटर्जी 23 जुलाई 2022 से जेल में हैं।

शिक्षक भर्ती घोटाला में बंगाल के पूर्व शिक्षा मंत्री पार्थ चटर्जी 23 जुलाई 2022 से जेल में हैं।

क्या है शिक्षक भर्ती घोटाला
बंगाल में हुआ यह घोटाला 2014 का है। तब पश्चिम बंगाल स्कूल सर्विस कमीशन (SSC) ने सरकारी स्कूलों में शिक्षकों की भर्ती निकाली। प्रक्रिया 2016 में शुरू हुई थी। उस वक्त पार्थ चटर्जी शिक्षा मंत्री थे। इस मामले में गड़बड़ी की कई शिकायतें कोलकाता हाईकोर्ट में दाखिल हुई थीं।

याचिकाकर्ताओं का आरोप था कि जिन कैंडिडेट के नंबर कम थे उन्हें मेरिट लिस्ट में टॉप पर रखा गया। कुछ कैंडिडेट का मेरिट लिस्ट में नाम न होने पर भी उन्हें नौकरी दे दी गई। ऐसे लोगों को भी नौकरी दी गई, जिन्होंने TET परीक्षा भी पास नहीं की थी।

CBI ने पिछले साल 30 सितंबर को पहली चार्जशीट पेश की थी। इसमें पूर्व शिक्षा मंत्री पार्थ चटर्जी समेत 16 लोगों के नाम थे। ED ने पार्थ चटर्जी और उनकी करीबी अर्पिता मुखर्जी को गिरफ्तार किया था। पार्थ 23 जुलाई 2022 से जेल में हैं, उनकी जमानत याचिकाएं खारिज हो चुकी हैं।

ये खबर भी पढ़ें…

अभिषेक बनर्जी को घसीटकर ले गई पुलिस:महुआ मोइत्रा को गोद में उठाकर हिरासत में लिया

दिल्ली पुलिस ने कृषि भवन पर धरने पर बैठे ममता बनर्जी के भतीजे अभिषेक बनर्जी समेत TMC नेताओं को हिरासत में ले लिया। ये सभी नेता केंद्रीय ग्रामीण विकास राज्य मंत्री निरंजन ज्योति से मुलाकात न होने पर कृषि भवन में ही धरने पर बैठे थे। महिला पुलिस ने महुआ मोइत्रा को गोद में उठाकर हिरासत में लिया। साथ ही सभी नेताओं के मोबाइल फोन भी जब्त कर लिए गए। पूरी खबर यहां पढ़ें…

शांतिनिकेतन में शिलापट्‌ट पर PM मोदी का नाम:गवर्नर ने यूनिवर्सिटी से जवाब मांगा

पश्चिम बंगाल की विश्व भारती सेंट्रल यूनिवर्सिटी (शांतिनिकेतन यूनिवर्सिटी) में एक शिलापट्‌ट पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और वाइस चांसलर का नाम लिखने को लेकर विवाद हो गया है। शिला पर रवींद्रनाथ टैगोर का नाम नहीं था। टैगोर ने ही यूनिवर्सिटी की स्थापना पश्चिम बंगाल के बीरभूम जिले में की थी। पूरी खबर यहां पढ़ें…​​​​​​​

खबरें और भी हैं…