रियासी हमले का चश्मदीद बोला-खाई में गिरे इसलिए जिंदा हैं: बस रोड पर होती तो आतंकी सब को मार देते, चीखना बंद किया तब फायरिंग रुकी

नई दिल्ली6 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

रविवार को रात 8:10 बजे तक स्थानीय लोगों की मदद से पुलिस ने यात्रियों को बाहर निकाला था।

जम्मू-कश्मीर के रियासी आतंकी हमले में घायल हुए मेरठ के प्रदीप कुमार ने घटना को लेकर नए खुलासे किए हैं। उन्होंने मंगलवार (11 जून) को कहा- भगवान का शुक्र है कि हमले के बाद हमारी बस खाई में गिर गई।

अगर बस खाई में नहीं गिरती तो आतंकी हम सभी को मार डालते। खाई में गिरने से हम जिंदा बच गए। हालांकि, खाई में गिरने के बाद भी आतंकी गोली चला रहे थे। जब तक सभी यात्रियों की चीख बंद नहीं हुई तब तक गोलीबारी जारी रही।

दरअसल, 9 जून को पीएम मोदी के शपथ ग्रहण से एक घंटा पहले जम्मू-कश्मीर में शिव खोड़ी से कटरा जा रही बस पर 2 आंतकियों ने गोलीबारी की। ड्राइवर को गोली लगने पर 53 सीटर बस खाई में गिरी।

घटना में 9 लोगों की मौत हुई 41 लोग घायल हुए। सुरक्षाबलों ने इलाके की घेराबंदी कर सर्च ऑपरेशन चलाया, लेकिन कुछ संदिग्ध नहीं मिला। प्रदीप इसी बस में सवार थे। उन्होंने कहा कि आतंकी सेना जैसी वर्दी पहनकर आए थे।

हमले में मारे गए लोगों के शव घटनास्थल पर बिखरे पड़े थे। स्थानीय लोगों ने घायलों को बचाने के लिए रेस्क्यू ऑपरेशन चलाया था।

हमले में मारे गए लोगों के शव घटनास्थल पर बिखरे पड़े थे। स्थानीय लोगों ने घायलों को बचाने के लिए रेस्क्यू ऑपरेशन चलाया था।

चश्मदीद बोला- नींद खुली तब बस खाई में गिर रही थी
घायल प्रदीप ने कहा कि बस शिव खोड़ी मंदिर से निकली ही थी। लोग वैष्णो देवी की ट्रैकिंग के बाद थक गए थे। कई यात्रियों को नींद लग गई थी। मैं भी सो गया था। बस घाटी पर चढ़ाई कर रही थी। इसलिए स्पीड धीरे थी। शाम करीब 6 बजे अचानक गोलियों की आवाज आई।

सामने बैठे लोग चिल्लाने लगे। मेरी नींद खुली तब बस खाई से नीचे जा रही थी। मुझे लगातार गोलियों की आवाज आ रही थी। बस एक पेड़ और छोटे पहाड़ के बीच में फंस गई। इसके बाद रोड से गुजर रहे लोगों ने पुलिस को सूचना दी और रेस्क्यू ऑपरेशन चलाया गया। अगर हम मरने की एक्टिंग नहीं करते तो शायद आज जिंदा नहीं होते।

5 टीमें सर्च ऑपरेशन में लगीं, NIA भी जांच में जुटी
हादसे में जान गंवाने वाले लोगों के परिजनों को जम्मू-कश्मीर के LG ने 10 लाख रुपए का मुआवजा देने का ऐलान किया। वहीं, घायलों को 50 हजार रुपए की सहायता राशि भी दी जाएगी। घायलों की मदद के लिए घटनास्थल के पास ही कंट्रोल रूम भी बनाया गया ।

मौके पर पुलिस, आर्मी और CRPF की एक संयुक्त अस्थाई सुरक्षाबल टीम तैयार कर हमलावरों को पकड़ने की कोशिश की जा रही है। सर्च ऑपरेशन के लिए अलग से 5 टीमें भी बनाई गई हैं। NIA की टीम भी जांच के लिए घटनास्थल पहुंच गई है।

तस्वीर बस के खाई में गिरने के बाद चलाए गए रेस्क्यू ऑपरेशन की है।

तस्वीर बस के खाई में गिरने के बाद चलाए गए रेस्क्यू ऑपरेशन की है।

जम्मू-कश्मीर के LG बोले- दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा
जम्मू-कश्मीर के लेफ्टिनेंट गवर्नर मनोज सिन्हा ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने स्थिति का जायजा लिया है और मुझे निर्देश दिया है कि हालात पर नजर रखूं। इस हरकत के पीछे जो भी लोग होंगे उन्हें जल्द से जल्द सजा दी जाएगी। PM मोदी ने सभी घायलों को स्वास्थ्य सेवा और मदद मुहैया कराने का निर्देश दिया है।

3 दशक में दूसरी बार ऐसा हमला
जम्मू-कश्मीर में ऐसा हमला तीन दशक में दूसरी बार है। इससे पहले, 10 जुलाई 2017 में अनंतनाग में आतंकियों ने अमरनाथ यात्रा के दौरान बस पर गोलियां बरसाईं थीं। इसमें 7 श्रद्धालुओं की जान गई थी। वहीं, 19 घायल हुए थे।

इंटेलिजेंस के मुताबिक, 250-300 आतंकी भारत में घुसपैठ को तैयार
16 दिसंबर 2023 को BSF के एक सीनियर अफसर ने इंटेलिजेंस के हवाले से जानकारी दी थी कि पाकिस्तान सीमा में 250 से 300 आतंकी लॉन्चपैड पर हैं। ये जम्मू-कश्मीर में घुसपैठ की फिराक में हैं। अफसर ने बताया कि सुरक्षाबलों को अलर्ट कर दिया गया है। सीमा पार से किसी भी तरह की घुसपैठ की कोशिश नाकाम कर दी जाएगी।

BSF के IG अशोक यादव ने पुलवामा में बताया कि आतंकी गतिविधियों को देखते हुए हम (BSF) और सेना संवेदनशील इलाकों पर नजर रखे हुए हैं और सतर्क हैं। पिछले कुछ सालों में सुरक्षाबलों और कश्मीर के लोगों के बीच जुड़ाव बढ़ा है। अगर लोग हमारा सहयोग करें तो हम विकास के कामों को बेहतर तरीके से आगे बढ़ा सकते हैं। पूरी खबर पढ़ें…

ये खबर भी पढ़ें…

यूपी के 22 तीर्थयात्रियों की जम्मू में मौत, 150 फीट गहरी खाई में गिरी बस

30 मई को यूपी से जा रही बस जम्मू के अखनूर में 150 फीट गहरी खाई में गिर गई। हादसे में 22 लोगों की मौत हो गई, जबकि 69 लोग घायल हुए। उन्हें अखनूर के अस्पताल ले जाया गया। गंभीर घायलों को जम्मू मेडिकल कॉलेज रेफर किया गया।

हादसा जम्मू-पुंछ राजमार्ग पर हुआ। एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि बस में उत्तर प्रदेश के हाथरस, अलीगढ़ के अलावा राजस्थान के करीब 90 लोग सवार थे। सभी हाथरस के बस (UP 86 EC 4078) से शिव खोड़ी जा रहे थे। पूरी खबर यहां पढ़ें…

खबरें और भी हैं…