फीचर आर्टिकल: दिल्ली में किताबों का मेला शुरू, बहुभाषी भारत की थीम पर है आधारित

नई दिल्ली12 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

नई दिल्ली के प्रगति मैदान पर विश्व पुस्तक मेला शुरू हो गया है। इसका शुभारंभ शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने किया। मेला 18 फरवरी तक हॉल 1 से 5 में चलेगा। इसकी थीम बहुभाषी भारत- एक जीवंत परंपरा रखा गया है। यानी इस बार भारत की सांस्कृतिक समृद्धि और भाषाई विविधता को किताबों के माध्यम से दर्शाया जा रहा है। सामान्य किताबों के साथ ई-मीडिया, भाषिनी एप्लिकेशन का उपयोग भी बताया जा रहा है। मेले का टिकट वयस्कों के लिए 20 और बच्चों के लिए 10 रुपए रखा गया है। यूनिफॉर्म में स्कूली विद्यार्थियों, दिव्यांग और वरिष्ठ नागरिक निशुल्क प्रवेश कर सकते हैं।10 से 18 फरवरी तक सुबह 11 बजे से रात 8 बजे तक प्रगति मैदान पर विश्व पुस्तक मेला गया जा रहा है।

मेला 45 हजार वर्ग मीटर के क्षेत्र में लगाया जा रहा है। थीम बहुभाषी भारत पर आधारित हजारों किताबें प्रदर्शित की जा रही हैं। वहीं, सम्मानित अतिथि होने के चलते लगभग 400 मीटर वर्ग में सऊदी अरब के प्रकाशकों की पुस्तकें भी सजाई जा रही हैं। इस अंतरराष्ट्रीय मंच पर यूनाइटेड किंगडम, फ्रांस, स्पेन, तुर्की, इटली, रूस, ताइवान, ईरान, यूनाइटेड अरब अमीरात, ऑस्ट्रिया, बांग्लादेश, श्रीलंका, नेपाल सहित और भी कई देशों के प्रतिनिधि प्रतिदिन साहित्य, भाषा, परंपरा और संस्कृति के बारे में चर्चा करेंगे। 9 दिन के इस मेले में 600 से अधिक कार्यक्रम आयोजन कराए जाएंगे।

बच्चों के लिए चलेंगी विशेष कार्यशालाएं

विश्व पुस्तक मेले में बच्चों के संवाद कौशल के लिए कैलीग्राफी, समाचार लेखन, कैरीकेचर, एनीमेशन स्टोरी डेवलपमेंट, कहानी लेखन, कला आदि की विशेष कार्यशालाएं लगाई जा रही हैं। इसके साथ ही पैनल डिस्कशन, प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता का आयोजन भी किया जा रहा है। वहीं, बुक्स फॉर ऑल के तहत सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय की पुस्तकें निशुल्क उपलब्ध कराई जाएंगी।

राइट्स टेबल के 10वें संस्करण का आयोजन

12 से 13 फरवरी को नई दिल्ली राइट्स टेबल के दसवें संस्करण का आयोजन किया जा रहा है। इसके तहत प्रकाशक, राइट्स प्रतिनिधि, साहित्यकार, अनुवादक और संपादक एक साथ चर्चा करेंगे। मेले में प्रकाशकों को नए व्यावसायिक माहौल में ‘बी2बी प्लेटफॉर्म’ के जरिये अपने विचारों के आदान-प्रदान, कॉपीराइट पर विचार-विमर्श और अपनी प्रकाशन सामग्री या मुद्रित उत्पादों के राइट्स को हस्तांतरित करने का अवसर भी मिलेगा।