पंजाब में मोस्ट वांटेड आतंकी गिरफ्तार: बंगाल में ग्रंथी बनकर छिपा था; बब्बर खालसा इंटरनेशनल से जुड़ा, लुधियाना धमाके में शामिल

  • Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Anti Gangster Task Force Punjab, DIG Gurpreet Bhullar, Arrest Of Babbar Khalsa International Terrorist 

चंडीगढ़32 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

पकड़े गए आतंकी के बारे में जानकारी देते AGTF के DIG गुरप्रीत भुल्लर।

पंजाब पुलिस की एंटी गैंगस्टर टास्क फोर्स को बड़ी कामयाबी मिली है। उन्होंने बब्बर खालसा इंटरनेशनल के मोस्ट वांटेड आतंकी चरनजीत पटियालवी को गिरफ्तार कर लिया। वह पिछले 12 साल से फरार था। पुलिस से बचने के लिए वह नाम बदलकर छिप रहा था।

यह आंतकी बंगाल के एक गुरुद्वारे में ग्रंथी बनकर रह रहा था। आतंकी के 2007 में लुधियाना के शिंगार सिनेमा बम ब्लास्ट मामले में शामिल होने का भी पुलिस ने दावा किया है। AGTF की टीम ने उसे डेराबस्सी से गिरफ्तार कर लिया।

कोर्ट ने दिया था भगौड़ा करार

AGTF के DIG गुरप्रीत सिंह भुल्लर ने बताया कि पटियाला के गांव बूटा सिंह वाला का निवासी चरनजीत पटियालवी कोर्ट ने भगौड़ा करार था। उसके खिलाफ 23 जुलाई 2010 को एक्सप्लोसिव एक्ट और अनलॉफुल एक्टिविटी एक्ट के तहत माछीवाड़ा में केस दर्ज हुआ था। उसके दूसरे साथी गुरमेल सिंह को डेटोनेटर और RDX के साथ पकड़ा गया था।

बंगाल के ID कार्ड मिले
उन्होंने बताया कि पटियालवी को डेराबस्सी के गांव लाली में गुरुद्वारा साहिब के पास से गिरफ्तार किया। वह इस वक्त वेस्ट बंगाल के खड़गपुर स्थित गुरुद्वारा साहिब में खुद को ग्रंथी बताकर रह रहा था। वह बातचीत के लिए मोबाइल या अन्य कोई कम्यूनिकेशन डिवाइस का इस्तेमाल नहीं कर रहा था। उसके कब्जे से पुलिस को वेस्ट बंगाल के अलग-अलग ID कार्ड मिले हैं।

धमाकों में रहा शामिल

DIG भुल्लर ने बताया कि चरनजीत पटियालवी बब्बर खालसा इंटरनेशनल में 2010 के आतंकी मॉड्यूल का एक्टिव मेंबर था। इसी मॉड्यूल के जरिए 2007 में लुधियाना के शिंगार सिनेमा में बम ब्लास्ट किया गया था। दूसरा ब्लास्ट काली माता मंदिर पटियाला और अंबाला में किया गया था। पटियालवी के बाकी साथी 2010 में ही पकड़ लिए गए थे।

खबरें और भी हैं…

.