डिजिटल अरेस्ट का कोई कॉन्सेप्ट नहीं: यह ठगों का फॉर्मूला; नई-पुरानी टेक्नोलॉजी का डेडली कॉम्बिनेशन है डीपफेक, PM मोदी के गाने शेयर करना भी क्राइम

नोएडा5 घंटे पहलेलेखक: भारत सिंह

  • कॉपी लिंक

हाल ही में उत्तर प्रदेश में पहली बार ‘डीपफेक’ और ‘डिटिजल अरेस्ट’ से ठगी करने के दो मामले सामने आए। मोबाइल और इंटरनेट यूज करने वालों के लिए ‘डीपफेक’ और ‘डिजिटल अरेस्ट’ सबसे नए खतरे हैं। इनसे निपटने के पुख्ता तरीके किसी को नहीं पता।

1 जुलाई 2015. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ‘डिजिटल इंडिया’ की शुरुआत करते हुए कहा था कि आज बच्चा भी डिजिटल ताकत को समझता है। हम इस बदलाव को न समझे तो दुनिया से पीछे रह जाएंगे।

17 नवंबर 2023. पीएम मोदी ने अपना गरबा करते हुए डीपफेक वीडियो वायरल होने पर चिंता जाहिर की। उन्होंने कहा कि इससे नया संकट आएगा। ज्यादातर लोगों के पास डीपफेक को कंफर्म करने की सुविधा नहीं है। इससे किसी भी अफवाह को आसानी से फैलाया जा सकता है।

यह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के गरबा डांस का डीपफेक वीडियो है। PM मोदी ने कहा कि उन्हें गरबा खेले काफी समय हो गया। बचपन में मैं बहुत अच्छा गरबा खेल लेता था।

यह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के गरबा डांस का डीपफेक वीडियो है। PM मोदी ने कहा कि उन्हें गरबा खेले काफी समय हो गया। बचपन में मैं बहुत अच्छा गरबा खेल लेता था।

2015 से 2023 तक पूरे देश में आम और खास लोगों ने डिजिटल