गुजरात में छुआछूत का संस्थागत रूप: सरपदड गांव में 5 आंगनवाड़ी, इनमें दलित बच्चों के लिए अलग केंद्र

  • Hindi News
  • National
  • 5 Anganwadis In Sarpadad Village, In Which Separate Centers For Dalit Children

राजकोट3 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

आंगनवाड़ी क्रमांक-2 में खेलते बच्चे।

आजादी के इतने सालों बाद भी देश में छुआछूत कायम है। वहीं आधुनिक कहा जाने वाला गुजरात भी इससे अछूता नहीं है। ताजा मामला गुजरात के सरपदड गांव है। राजकोट से 21 किमी दूर इस गांव में पांच आंगनवाड़ी हैं, जिनमें एक में सिर्फ दलित समाज के बच्चे पढ़ते हैं, जबकि शेष चार में अन्य तमाम समाज और जाति के बच्चे पढ़ते हैं।

गांव में रहते हैं 4500 लोग
इस गांव की जनसंख्या 4500 है। वहीं, दलित और अन्य समाज का आंगनवाड़ी केंद्र बमुश्किल 50 मीटर की दूरी पर ही है। फिर भी यहां बच्चे अलग-अलग पढ़ते हैं।

दलित बस्ती पास होने से भी ऐसा हो सकता है
आंगनवाड़ी में पिछले 14 साल से बतौर हेल्पर काम कर रही विजयाबेन परमार ने कहा कि गांव में 5 आंगनवाड़ी में से क्रमांक-2 में सिर्फ दलित समाज के बच्चे ही पढ़ते हैं। इस आंगनवाड़ी के पिछले हिस्से में दलित समाज की बस्ती है, इसलिए भी यहां दलित समाज के बच्चे आते हैं। यहां अन्य समाज के बच्चे आंगनवाड़ी में नहीं आते हैं।

यहां किसी तरह की रोक-टोक नहीं
वहीं, आंगनवाड़ी 5 की सदस्य प्रज्ञाबेन राणीपा ने बताया कि दलित समाज के बच्चों के लिए किसी भी आंगनवाड़ी में रोक-टोक नहीं है, लेकिन वे अपने बच्चों को यहां नहीं भेजते।

पूरे मामले की जांच की जाएगी
इस बारे में डीडीओ देव चौधरी ने कहा कि यदि ऐसा है तो यह गलत है। भेदभाव किसी भी हालत में स्वीकार्य नहीं है। सबसे पहले इस पूरे मामले की जांच की जाएगी।

खबरें और भी हैं…

.